Amrita Pritam : Chune Huye Upanyas

view cart
Availability : Stock
  • 0 customer review

Amrita Pritam : Chune Huye Upanyas

Number of Pages : 680
Published In : 2015
Available In : Paperback
ISBN : 978-81-263-3034-8
Author: Amrita Pritam

Overview

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कवि कलाकार अमृता प्रीतम के चुने हुए आठ उपन्यासों का संग्रह है यह! यह उपन्यास है- 'पिंजर', 'नागमणि', 'यात्री', आक के पत्ते', 'कोई  नहीं जनता', 'यह सच है', 'तेहरवा सूरज' और उनचास दिन! सामाजिक अन्याय किस प्रकार व्यक्ति को तोड़ता है और स्वयं समाज को ध्वस्त करता है, प्रथम प्रेम की पिंगो पर उड़ान भारती हुई भावुक नारी किस प्रकार छली जाती है और धराशायी होती है वर्तमान जीवन के घात प्रतिघात के कैसे अभिशप्त और वरदानी रूप है- यह सब इन उपन्यासों में जीवन रूप में विदमान है! जीवन का दुखद यथार्थ और भविष्य का आशान्वित उल्लास यहाँ जिन पत्रों के माध्यम से रूपायित है वे सब अमृता प्रीतम की प्रखर लेखनी द्वारा साहित्य में अपना अमरत्व स्वयं संजोये बैठे हैं.

Price     Rs 500

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कवि कलाकार अमृता प्रीतम के चुने हुए आठ उपन्यासों का संग्रह है यह! यह उपन्यास है- 'पिंजर', 'नागमणि', 'यात्री', आक के पत्ते', 'कोई  नहीं जनता', 'यह सच है', 'तेहरवा सूरज' और उनचास दिन! सामाजिक अन्याय किस प्रकार व्यक्ति को तोड़ता है और स्वयं समाज को ध्वस्त करता है, प्रथम प्रेम की पिंगो पर उड़ान भारती हुई भावुक नारी किस प्रकार छली जाती है और धराशायी होती है वर्तमान जीवन के घात प्रतिघात के कैसे अभिशप्त और वरदानी रूप है- यह सब इन उपन्यासों में जीवन रूप में विदमान है! जीवन का दुखद यथार्थ और भविष्य का आशान्वित उल्लास यहाँ जिन पत्रों के माध्यम से रूपायित है वे सब अमृता प्रीतम की प्रखर लेखनी द्वारा साहित्य में अपना अमरत्व स्वयं संजोये बैठे हैं.
Add a Review
Your Rating